Skip to main content

Ashish Arora : Founder of Cricktube , Hindipanda & Many other Micro Niche Blogs

About Ashish Arora

हम अपनी जिन्दगी में कुछ न कुछ दूसरों से अलग करने का सोचते है. हम सभी बचपन से ही अपने दिमाग में एक तस्वीर बनाते है की हम आगे चल कर ऐसे बनेंगे, वह तस्वीर वक़्त के साथ साथ बदलती भी है और इस जिन्दगी के चक्र में कई बार हम खो से जाते है और हमारी सोच में बनी वह तस्वीर धुंधली सी होने लगती है. ऐसे में वही लोग अपने कार्य क्षेत्र में कामयाब होते है जो अपनी सोच में बनी इस तस्वीर को मिटने नहीं देते.

मैं आपका दोस्त Arpit Rathi और Biography Page में आज हम बात करेंगे Ashish Arora की जो लगभग पिछले दो सालों से Digital Marketing की फील्ड में है और अपनी Website और कई Micro Niche Blogs चला रहे है. 

Ashish Arora
Ashish Arora ( HindiPanda & Cricktube )
सफल होने के लिए हमारे अन्दर आग होना जरुरी है. हम कुछ भी करेंगे लोग मजाक बनायेगे .. उनके इस मजाक से ही तुम अपने अन्दर सफल होने की आग जला लो ! 

 Ashish Arora से हमने Digital Marketing और Internet से सम्बन्धित कई चीजों पर सवाल जबाब किये.जिसमे उन्होंने अपने सुझाव काफी साफ़ और मजाकिया अंदाज में साझा किये. उन सभी सवालों पर पहुचने से पहले आइये थोडा जानते है Ashish Arora के बारे में और फिर आपको बताते है Ashish Arora से बात करने  का हमारा अनुभव कैसा रहा.

झुमका सिटी के नाम से मशहूर बरेली के नजदीक शहर बदायूं में रहने वाले Ashish Arora ने अपने इंटर की पढाई पूरी करने के बाद बरेली का रुख किया और 6 साल लगभग बरेली की हवा में गुजारे जिसमें उन्होंने अपनी ग्रेजुएशन ( BCA ) और पोस्ट ग्रेजुएशन ( MCA ) की डिग्री पूरी की और लगभग एक साल के लिए नॉएडा चले गये. नॉएडा में अपनी ट्रेनिग के दौरान ही उन्होंने जॉब न करने का मन बनाया और दोस्तों के साथ इन्टरनेट को खंगालने लगे. इन्टरनेट पर Ashish को कई E Commerce बिज़नस के आईडिया भी आये लेकिन कुछ कारणों से तब वह पूरे नहीं हुए , जिसे Ashish Arora आज अपने लिए काफी अच्छा मानते है.

नॉएडा से वापस आने के बाद Ashish Arora ने खुद की वेबसाइट का मन बनाया जिसके लिए उन्होंने CRICKTUBE नाम से शुरुआत की. हालाँकि आशीष का यह प्रोजेक्ट इतना सफल नहीं रहा और काफी समय के बाद उन्होंने  इस पर ध्यान देना कम कर दिया और नये प्रोजेक्ट HINDI PANDA पर आ गये. कुछ समय बाद यहाँ भी SEO बड़ी चुनौती बन कर सामने आया जो आजकल हर ब्लॉगर के लिए परेशानी का सबब बन ही जाता है.

Ashish Arora के परिवार की बात करें तो उनके पिता अपने शहर के सफल बिज़नसमेन है लेकिन आशीष की उनके बिज़नस में शुरुआत से ही कोई दिलचस्पी नहीं. आशीष का विश्वास Online दुनिया में ज्यादा है और वह अपना दिन Laptop , Internet के बीच बिताना ही पसंद करते है. यही कारण है की वह आज के समय में इन्टरनेट पर मौजूद कमाई के विकल्पों पर नजरें बनाये हुए है.

आशीष सिर्फ अपने ब्लॉगस पर ही नहीं बल्कि हिंदी के कई बड़े और सफल ब्लोग्स पर भी अपने लेख प्रकाशित कर चुकें है. जो उन्हें एक अलग पहचान देता है.

सवाल - जबाब 

Ashish Arora
Ashish Arora ( Cricktube & HindiPanda )


आइये अब नजर डालते है Ashish Arora से किये गये कुछ सवालों और उनके जबाबों पर जिनमे उन्होंने काफी मजाकिया और सहज लहजे में सभी सवालों के हमें जबाब दिए. जिसे हमने वैसे ही शब्दों में आपके सामने रखने की कोशिश की है.


प्रश्न : आप इस फील्ड में कैसे आये ?
उत्तर : मुझे ये तो नहीं पता भाई कैसे और क्यों .. सब होता चला गया और मै इस सब मे आया .. लेकिन इतना हमेशा से चाहता था की घर के बिज़नस में न जाऊं .. खुद का कुछ करूं और अभी ये कर रहा हूँ.

प्रश्न : आप ट्रेनिंग पर गये और फिर भी जॉब नहीं की .. ऐसा क्यों ?
उत्तर :  मैं ट्रेनिंग पर गया था सीखा वहां काफी कुछ , इंटरव्यू दिए लेकिन मुझे ट्रेनिंग से ज्यादा बाकी की चीजों में मजा आता था .. नई जगह घूमना .. मोमोज खाना .. मॉल जाना .. उस Time दिल्ली की हवा में DSLR का शौक चढ़ा और वो भी ले लिया.
जॉब करने का कभी भी अन्दर से वो फील नहीं आया , सोच हमेशा ये रही खुद से कुछ करना है ऐसे जिन्दगी का मजा नहीं.

प्रश्न : आप अपने प्रोजेक्ट्स के बारे में कुछ बताइए ?
उत्तर : मैंने CRICKTUBE से शुरू किया Knowledge कम थी बस एक सोच थी दिमाग में वेबसाइट बनानी है. Guide करने वाला कोई ठीक से मिला नहीं तो उसमे काफी Time और पैसे ख़राब हुए लेकिन लगभग 1 साल से ज्यादा उस पर काम किया और फिर दूसरे प्रोजेक्ट को शुरू किया HINDIPANDA के नाम से.

एक Time पर ऐसा हुआ की दोनों ही प्रोजेक्ट जीरो पर थे .. तब बहुत परेशानी होती थी सोच सोच कर .. कैसे करना है .. क्या करना है .. पैसा खराब किये जा रहा था सब. लेकिन इतना समय इन प्रोजेक्ट्स को देने के बाद इन्हें बेचने या फिर छोड़ने का मन नहीं था.  फिर कुछ लोगो से Contact किया उन्होंने काफी कुछ बताया. CRICKTUBE को छोड़ कर HINDIPANDA पर काम करने लगा .. वो काम सिर्फ इसलिए था की मैं HINDIPANDA पर देखना चाहता था जो चीज सीख रहा हूँ वह काम कर रही हैं या नहीं .. वो सभी चीजे आगे बढती गयी और HINDIPANDA फिर रैंक होने लगा धीरे धीरे.

प्रश्न : पहला प्रोजेक्ट आपने छोड़ दिया ?
उत्तर : नही .. उसे छोड़ा नहीं है , अभी फिर HINDIPANDA के साथ साथ MICRO NICHE BLOGS पर काम शुरू किया हुआ है जो ज्यादा अच्छा आप्शन है सभी ब्लॉगर्स के लिए. थोडा वहां से फ्री होऊंगा तो जरुर CRICKTUBE को भी ठीक करूंगा .. शुरुआत तो सब उसी से हुयी है मेरी.

प्रश्न : अभी तक का आपका सफ़र कैसा है ?
उत्तर : अच्छा है सब .. जब आप अपना ग्राफ ऊपर जाते देखते है तो काफी ख़ुशी मिलती है. मैंने जब वेबसाइट शुरू की थी तब मुझे कुछ ज्यादा अंदाजा नहीं था क्या और कैसे होना है. उसके बाद आज मैं जहां भी हूँ .. शुरुआत की बेवकूफियां हंसाती भी है लेकिन वो भी जरूरी है उसी से सीख कर आप आगे बढते है.

प्रश्न : इस सभी में किस किस ने आपका साथ दिया ?
उत्तर : मेरी सारी गर्लफ्रेंड्स ने :-p

मजाक से हट कर अगर देखूं तो मुझे Financial कोई दिक्कत नहीं हुयी. Emotionally कई बार और काफी परेशान रहा क्योंकि जब ख़ास लोग ही आप पर भरोसा नहीं करते तो बुरा लगता है. अच्छा है सब .. अगर तब उन्होंने साथ दे दिया होता तो शायद मैं आगे बढ़ने में लापरवाही बरतने लगता. लेकिन हाँ ..  मेरी कॉलेज फ्रेंड ने मुझे काफी सपोर्ट किया और हर बार सम्भाला भी.

प्रश्न : MICRO NICHE BLOGS कौन कौन से है आपके ? 
उत्तर : अर्पित , कुछ Links और प्रोजेक्ट्स आपको हमेशा ही अपने दबा के रखने चाहिये जिन्हें सिर्फ आप गूगल में रैंक कराए और वहीं तक छोड़ दें. उन पत्तों को आप खोलेंगे तो जरुर कोई न कोई आपके Backlinks या Keywords चुरा कर आपके लिए गड़बड़ करेगा ही करेगा.

लेकिन इतना जरुर कहूँगा .. आज के टाइम में Micro Niche Blogging मेरे प्रोजेक्ट्स से ज्यादा अच्छी चल रही है और उस पर मेहनत भी कम है. हर ब्लॉगर को वहीं से शुरुआत करनी चाहिये.

प्रश्न : Digital Marketing Course के लिए क्या करें ?
उत्तर : Digital Marketing Course के लिए मेरे हिसाब से किसी भी Institute में पैसा देना बिलकुल बेकार है.  ये सब उनका बिज़नस है .. आप अपना वही पैसा किसी प्रोजेक्ट को स्टार्ट करने में लगाये और Digital Marketing Course इन्टरनेट से सीखें. आप खुद से गलतियाँ कर कर के जो चीजे सीखेंगे वो ज्यादा अच्छे से आपको ध्यान रहेंगी. इसलिए खुद के Live Project पर काम करना ज्यादा अच्छा है दूसरों को पैसा देने से.

ऑनलाइन यदि आप Digital Marketing Course लेना भी चाहते है तो Deepak Kanakraju अच्छा विकल्प है आपके पास. मैं किसी का प्रमोशन नही कर रहा .. मैंने उनकी विडियो से काफी कुछ वास्तव में सीखा है.


प्रश्न : आप किस किस को फॉलो करते है ?
उतर : पढना ज्यादा पसंद नहीं .. इसलिए आर्टिकल पढने की बजाय मैं विडियो देखना पसंद करता हूँ और Deepak Kanakraju , Amit Mishra , Sumit Kapoor , Akash Gola , Harsh Agrawal , Ripon , Satish इन सभी को मैं काफी मानता हूँ Contact में हूँ इनसे. अच्छे मुकाम पर है सभी . मैं इन्हें ही देख कर सीख रहा हूँ.

प्रश्न : सबसे बड़ी चुनौती आपको क्या लगी ?
उत्तर : सबसे बड़ी चुनौती .. जब मैं अपनी वेबसाइट रैंक नहीं करा पा रहा था तो SEO से ही परेशान था. दुनिया में लोग SEO के नाम पर हर किसी से फालतू पैसा लूट रहे है .. मैं भी काफी लोगो की बातों में आया .. कुछ तो ख़ास लोग भी थे मेरे . भाई भाई कर के जिन्होंने मुझे लम्बी चौड़ी डिटेल्स भेजी SEO के लिए. लेकिन यही धंधा है उनका.

जब आप SEO समझ जाते हो एक बार .. तो इतना मुश्किल भी नहीं है जितना तब लगता था वो मुझे , SEO जरूरी भी है की आपको आये. नहीं तो आप इन्टरनेट पर कुछ नहीं.

प्रश्न : ब्लॉगिंग का क्या भविष्य है ?
उत्तर : बहुत ज्यादा स्कोप है आगे आने वाले टाइम में .. आप खुद देखों , सब कुछ इन्टरनेट पर हो रहा है. हर कोई इन्टरनेट पर ही सर्च करता है  अब तो जरूरी है आप अब अपनी पहचान इन्टरनेट पर ही बनाओ.

प्रश्न : इन्टरनेट पर पैसे कमाने का आसान तरीका ?
उत्तर : काफी रास्ते है , धोखे भी बहुत है लेकिन सबसे अच्छा मेरी नजर में ब्लॉगिंग है या फिर आप यूटूब पर भी जा सकते हो. वहां पहचान और पैसा दोनों मिलते है. बस एक लेवल पर पहुचने की जरुरत है.

प्रश्न : ब्लॉगिंग के आलावा आप क्या करते है ?
उत्तर :  ब्लॉगिंग के आलावा मैं फिलहाल डिजिटल करेंसी को लेकर काफी एक्टिव हूँ देखना चाहता हूँ कब तक हमारे देश में भी इसको लेकर लोग जागरूक होते है और इसे अपना लाइफ स्टाइल बनाते है.

प्रश्न : ब्लॉगिंग में सबसे जरूरी क्या है ?
उत्तर : अगर आपको इन्टरनेट पर अपनी पहचान बनानी है तो सबसे ज्यादा जरूरी SEO है. अगर आपको SEO अच्छे से आता है तो आप कुछ भी लोगो तक पंहुचा सकते हों लेकिन अगर SEO नहीं आता तो फिर अपना ब्लॉग सिर्फ आप ही खोल रहे होगे कोई दूसरा नहीं देख पायेगा.

प्रश्न : आप कौन से टूल्स उपयोग करते है Images और SEO के लिए ?
उत्तर : Images के लिए तो फ्री टूल्स काफी मिल जाते है Canva बेस्ट है. वैसे फ्री भी है और Paid भी. बाकी अगर पोस्ट में Images की बात है तो Pixabay से काफी Images लेते है हम.
SEO के लिए मुझे Ahref बेहद पसंद है. मैं मानता हूँ Ahref के ग्राफ ने मुझे काफी Motivate किया है मैं हमेशा अपना ग्राफ देख कर Motivate होता हूँ उस पर , बाकी काम तो उसका लाजबाब है ही.

प्रश्न : आपके साथ कितने लोग काम करते है ?
उत्तर : मेरे साथ 3 लोग हैं जिन्हें मै Pay करता हूँ बाकी मेरे दोस्त है खास जो हमेशा ही मेरे साथ जरूरत के टाइम साथ खड़े होते है.

प्रश्न : एक अर्टिकल को कितने समय में रैंक कराया जा सकता है ? 
उत्तर :  सब कुछ काफी हद तक आपके Content और SEO पर निर्भर है. हमारे कुछ अर्टिकलस कुछ देर में ही रैंक हो गये है और कुछ आज भी शायद रैंकिंग में नहीं है. ये आपके हाथ में नहीं है .. इसे सोचने से अच्छा हम बेहतर से बेहतर काम पर ध्यान दें.

प्रश्न : SEO के लिए क्या करें ?
उत्तर : SEO के लिए सबसे जरूरी है Keywords ढूँढना. बिना Keywords के अर्टिकल पर काम करना बेकार है कुछ नहीं होने वाला. इसलिए Ahref tool जरूरी है की लिखने से पहले देख ले वह चीज कितनी सर्च होती है और कैसे सर्च होती है. उसके बाद कंटेंट क्वालिटी पर ध्यान दें. आखिर में Backlinks को अहमियत दें. जिसमे Guest Posting सबसे ज्यादा मददगार है.

आखिरी प्रश्न ,
आपने सबसे बड़ी गलती क्या की और आप क्या सुझाव देंगे ?
उत्तर : मैंने सबसे बड़ी गलती की .. SEO पर ध्यान न देकर.
मेरी सोच थी ज्यादा से ज्यादा कंटेंट डालते रहो अपनी वेबसाइट पर वो रैंक हो जाएगी. दूसरों से काम करवाना मेरी बहुत बड़ी गलती रही लगभग मेरा सारा काम दूसरों के हाथो में था और मैं अपना मजे से इधर उधर की चीजों में रहता था. लेकिन .. ब्लॉगिंग में आप तभी सफल होगे जब आप खुद SEO सीखेगे. सब कुछ SEO पर निर्भर है. रोज कितने ब्लॉग बनते और डिलीट हो जाते है. अगर आपने SEO सीख लिया तो आप इन्टरनेट पर अच्छे से रैंक कर जाओगे नहीं तो आगे नहीं बढ़ सकते.

Ashish Arora
Ashish Arora ( HindiPanda & Cricktube )

Ashish Arora on Social Media


तो दोस्तों , यह थे Ashish Arora  से हमारे कुछ सवाल जबाब. उम्मीद करते है आपको Ashish Arora के अनुभव से कुछ सीखने को जरुर मिला होगा. आशीष को हम दिल से धन्यवाद देते हैं की उन्होंने अपना समय हमारे लिए निकाला. उम्मीद करते है आने वाले समय में आशीष काफी ऊचाइयां छुएगें.


Biography Page पर हम जल्द ही आयेगे नए किसी Blogger या Digital Marketer के साथ. तब तक के लिए मैं Arpit Rathi आपसे विदा लेता हूँ .. लेख पढने के लिए आपका दिल से धन्यवाद !

Comments